कांग्रेस के नेता गजब के स्वार्थी, पार्टी को अपना नहीं समझते

नई दिल्ली(अरुण पांडेय, मैनेजिंग एडिटर): आप इन तस्वीरों को ध्यान से देखिए कांग्रेस के राष्ट्रीय दफ्तर की हैं। मैं हाल में ये चेक करने गया था यहां क्या एक्शन है, दफ्तर में क्या चल रहा है.. देखिए क्या हाल बना रखा है इस पार्टी ने अपने दफ्तर का।

कांग्रेस आकंठ स्वार्थी लोगों से भरी पड़ी है और यही लोग उसकी बुरी गत के लिए जिम्मेदार हैं।


एक ये भी बड़ी वजह है कि इसके नेता पार्टी से प्यार नहीं करते। कांग्रेस के 24 अकबर रोड स्थित राष्ट्रीय कार्यालय का बुरा हाल देखकर कोई भी पार्टी के लिए नेताओं और कार्यकर्ताओं के कमिटमेंट का अंदाज लगा सकते हैं।

दफ्तर में जगह जगह गंदगी, रौनक विहीन दफ्तर, गंदे दरवाजे, टूटी खिड़कियां जिस एंगल से देखेंगे वहां बेतरतीब और फैलान।

यहां बैठे लोगों से मिलेंगे तो उनके मुरझाए चेहरे, रौनक का कहीं नामों निशान नहीं, लगता है जैसे बरसों से राहुल गांधी और सोनिया गांधी दफ्तर ना आए हों।

किसी भी तरह से नहीं लगता कि ये पार्टी 3 साल पहले तक सत्ता में थी। सैकड़ों करोड़ों रुपए चंदा आया पर लगता है एक रुपया भी पार्टी के दफ्तर में खर्च नहीं किया गया है।

इस दफ्तर में या तो कांग्रेस के बड़े नेता आते नहीं, अगर आते हैं तो और बड़ी बेशर्मी है। क्योंकि दफ्तर का इतना बुरा हाल देखकर कांग्रेस के कट्टर विरोधियों तक को शर्म और सहानुभूति आ जाएगी।

जो लोग उस पार्टी का ख्याल नहीं रख सकते जिसकी दम पर वो सालों साल सत्ता पर काबिज रहे, तो वो देश की निस्वार्थ सेवा करेंगे इसकी क्या गारंटी।

आप सोचिए मैं ये नहीं कह रहा कि इसे करोड़ों रुपए खर्च कर देते। लेकिन दो-चार करोड़ में रंग रोगन और साफ सफाई तो हो सकती थी। लेकिन लगता है कि सबकुछ सीपीडब्लूडी के ऊपर छोड़ दिया गया है।

 

(हालांकि कांग्रेस ने 10 साल में जिस कदर भ्रष्टाचार किया था, उसका 1 परसेंट भी दफ्तर में खर्च कर दिया जाता तो चकाचक हो जाता)

कांग्रेस नेताओं में अगर जरा सी शर्म बची है तो इस दफ्तर को ठीक कर लो भाई लोगो, पूरे देश से लोग यहां आते हैं, क्या सबने ने आंख बंद कर रखी है।

जब कांग्रेस की सरकार थी तो उसे खूब चंदा मिला था, लेकिन वो उसने पता नहीं कहां खर्च कर दिया… राहुल भाई, सोनिया जी, देश में मीन मेख बाद में निकालना पहले अपना घर तो ठीक कर लो।
अगली बार मैं बीजेपी के दफ्तर का हाल आपको बताउंगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *