You Matter Most

बीजेपी के दिग्गज नेताओं की किस्मत है दांव पर

1 min read

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव 7 चरणों में हो रहा है. ऐसे में इस बार के चुनाव में सभी पार्टियों के कद्दावर नेताओं की साख दांव पर है. जिन चार नेताओं का जिक्र किया जा रहा है वे सभी बीजेपी के सांसद हैं. इन नेताओं की छवि पिछले ढाई सालों में कैसी रही है इस पर बहुत कुछ निर्भर करता है.

वाराणसी-
वाराणसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है. प्रधानमंत्री अपनी सभी चुनावी रैलियों में खुद को यूपी वाला कहते हैं. ऐसे में कम से कम वाराणसी की सभी विधानसभा सीटों पर पीएम मोदी की साख दांव पर होगी. खासकर तब, जब बीजेपी पीएम मोदी के चेहरे पर ही विधानसभा चुनाव लड़ रही है. हालांकि कुछ दिन पहले ही जिस तरीके से प्रधानमंत्री मोदी ने नोटबंदी का फैसला लिया. क्या यह फैसला सही था या गलत इसका भी टेस्ट इस बार के चुनाव में होने वाला है.

लखनऊ-
बीजेपी के कद्दावर नेता राजनाथ सिंह का संसदीय क्षेत्र है. केंद्र सरकार में वे मंत्री हैं तो लखनऊ की सीटों पर बीजेपी की स्थिति कैसी रहेगी, ये उनकी ताकत का अंदाजा लगाएगी. राजनाथ सिंह भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष भी रहे हैं. बताया जा रहा है कि अगर उत्तर प्रदेश में बीजेपी सत्ता में आती है तो उनका नाम सीएम पद की दौर में सबसे आगे है. लिहाजा सांगठनिक तौर पर उन्हें इस जिम्मेदारी का अंदाजा भी होगा. अब इससे साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि राजनाथ की साख लखनऊ की सभी विधानसभा सीटों पर तो दांव पर रहेगी ही.

कानपुर-
कद्दावर नेताओं की श्रेणी में दूसरा नाम मुरली मनोहर जोशी का है. जोशी भारतीय जनता पार्टी के पूर्व अध्यक्ष हैं और अभी कानपुर से सांसद हैं. लेकिन कानपुर में मुस्लिम और ओबीसी वोटबैंक ज्यादा होने की वजह से सपा को सबसे ज्यादा विधानसभा सीटें मिलती रही हैं. इलाहाबाद के रहने वाले मुरली मनोहर जोशी बीजेपी के मार्गदर्शक मंडल में भी हैं. ऐसे में बीजेपी को कानपुर की विधानसभी सीटों पर जिताना उनके लिए चुनौती होगी.


गोरखपुर-
भारतीय जनता पार्टी के फायरब्रांड नेता के रूप में मशहूर योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से सांसद हैं. बीजेपी ने इस बार विधानसभा चुनाव में सीएम पद के उम्मीदवारों का ऐलान तो नहीं किया लेकिन सत्ता में आने की स्थिति में योगी भी संभावित उम्मीदवार में शामिल हैं. लिहाजा आस-पास की विधानसभा सीटों पर उनकी अस्मिता दांव पर है. सवाल यही है कि क्या योगी गोरखपुर के आस-पास की विधानसभा सीटों पर बीजेपी को जिता पाने में कामयाब होंगे?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *